सोमवार, 14 मार्च 2011

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया गया National Science Day 28 Feb

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया गया  National Science Day 28 Feb 
     आज 28 फरवरी को रा.व.मा.विद्यालय अलाहर,खंड रादौर जिला यमुना नगर में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस  मनाया गया | जिला शिक्षा अधिकारी,हरियाणा विज्ञान मंच रोहतक,हरियाणा स्टेट कौंसिल फार साईंस एंड टैक्नोलोजी चंडीगढ़ के दिशा निर्देशों के अंतर्गत इस  अवसर पर विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया और एक विज्ञानं पोस्टर प्रदर्शनी लगाई गयी | विद्यालय के विभिन्न छात्र/छात्राओं को जिन्होंने विभिन्न राज्य , राष्ट्रीय स्तरीय विज्ञान प्रतियोगिताओं में भाग लिया उन को सम्मानित किया गया | 
इस अवसर पर बोलते हुए विज्ञान अध्यापक दर्शन लाल ने बताया कि विज्ञान से होने वाले लाभो के प्रति समाज में जागरूकता लाने और वैज्ञानिक सोच पैदा करने के उद्देश्य से राष्ट्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तत्वावधान में हर साल 28 फरवरी को भारत में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया जाता है। 28 फरवरी सन् 1928 को सर सी वी रमन ने अपनी खोज की घोषणा की थी। इसी खोज के लिये उन्हे 1930 में नोबल पुरस्कार दिया गया था।
रमण प्रभाव के बारे में बोलते हुवे प्रधानाचार्य साहिब सिंह ने बताया कि “जब अणु प्रकाश को बिखरते हैं तो उस समय मूल प्रकाश में परिवर्तन हो जाता है नवीन किरणों की उपस्तिथि से हम यह परिवर्तन देख सकते है इस परिक्षिप्त प्रकाश में जो किरणे दिखाई पड़ी वही किरणे ‘रमण किरणे’ कहलाई” मात्र २०० रुपयों के उपकरणों पर की गयी महान खोज 28 फरवरी 1928 को देश के लिए यादगार दिन बन गया |
आज इस अवसर पर विज्ञान की विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लेने वाले बच्चों शिल्पा,दिव्या,सोनम,रवि,नेहा,दिलबाग,रुबिता,शिवकुमार,मंजुल,मोहित,अंजलीदत्त,सोनिया,शुभम 
को प्रधानाचार्य साहिब सिंह जी ने पुरस्कार दे कर सम्मानित किया  |
इस अवसर पर विद्यालय के सभी अध्यापको/प्राध्यापकों सुनील कम्बोज,मुकेश रोहिल,संजय शर्मा,सुभाष काम्बोज,रविन्द्र सैनी,मनोहर लाल,संदीप जी का योगदान सराहनीय रहा |
प्रस्तुति:- इमली इको क्लब रा.व.मा.वि.अलाहर,जिला यमुना नगर हरियाणा
द्वारा--दर्शन लाल बवेजा(विज्ञान अध्यापक)

3 टिप्‍पणियां:

शिक्षामित्र ने कहा…

अच्छा है। ऐसे दिवसों के आयोजन से विज्ञान के प्रति जागरूकता फैलेगी।

दर्शन लाल बवेजा ने कहा…

तारे क्यों चमकते हैं?
हमारे और आकाश के तारों के बीच पृथ्वी का वायुमंडल होता है। और जब प्रकाश वायुमंडल से होकर गुजरता है तो वह विरूपित हो जाता है। यह विरूपण लगातार बदलता रहता है। यही कारण है कि तारे चमकते हुए दिखाई देते हैं। जब इन्ही तारों को अंतरिक्ष से देखा जाता है (जहां वायुमंडल नही होता है) वहां ये बिल्कुल चमके हुए दिखाई नही देते हैं। यही कारण है कि हब्बल टेलिस्कोप इत्यादि तारों की अधिक अच्छी तस्वीरे लाने में सक्षम हो पाती हैं।

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

होली के पर्व की अशेष मंगल कामनाएं।
जानिए धर्म की क्रान्तिकारी व्‍याख्‍या।